' मन के मोती: पहला मोती

Labels

Sunday, March 12, 2017

पहला मोती



दोहे 
सुनीता काम्बोज
1
आँखें होती आइना ,सब देती हैं बोल ।
मन के सारे भेद को , ये देती हैं खोल ।।
2
भाई भाई कर रहे , आपस  में तकरार ।
याद किसी को भी नही , राम भरत का प्यार ।।

3
अपने मुख से जो करे , अपना ही गुणगान ।
अंदर से है खोखला , समझो वो इंसान ।।
4
ज्ञान उसे था कम नहीं , था बेहद बलवान।
पर रावण को खा गया , उसका ही अभिमान ।।
5
नदी किनारे तोडती, आता है तूफ़ान।
नारी ,नदिया एक- सी, मर्यादा पहचान ।।
6
ढल जाएगा एक दिन ,रंग और ये रूप ।
शाम हुई छिपने लगी ,उजली उजली धूप ।।
7
माला लेकर हाथ में , कितना करलो जाप ।
काटेंगे शुभकर्म ही,तेरे सारे पाप ।।
8
घायल है माँ भारती , नींद छोड़कर जाग
नफरत की लपटें उठीं , बढ़ती जाती आग ।।
-०-

9 comments:

  1. बहुत सार्थक रचना बहन

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर प्रणाम आदरणीय भैया जी हार्दिक आभार

      Delete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति सखी ..हार्दिक बधाई !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर धन्यवाद प्रिय ज्योत्स्ना शर्मा जी

      Delete
  3. Nice post ... keep sharing this kind of article with us......visit www.dialusedu.blogspot.in for amazing posts ......jo sayad hi aapne kbhi padhe ho.....ek bar jarur visit kren

    ReplyDelete